Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal Creation's -स्वतन्त्र लेखन-

काव्य-नज़्म, ग़ज़ल-गीत, व्यंग्य-किस्से, नाटक-कहानी-विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित। -स्वतंत्र लेखन-

Apr 3, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

🌹 दास्ताँ

💗 एक इंतज़ार… महोबत। मेरी आगामी अति विस्तृत दर्दभरी नज़्म श्रंखला के अंतर्गत मेरी प्रथम दर्दभरी नज़्म दास्ताँ एक इंतज़ार… महोबत। एक ऐसी दर्दभरी महोबत की दास्ताँ है जो यक़ीनन आपके ह्रदय पर अपने दर्द की पीड़ा से दस्तक़ देगी। और जिसका प्रत्येक शेर एव कलाम आपके धड़कते दिल को बेहिंतिया धड़कातें हुए आपकी हर […]

Mar 31, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

🌹 दास्ताँ // 🌹Dastan

नमस्कार मित्रों, जैसा कि आपको ज्ञात है कि मेरे आगामी अति विस्तृत दर्दभरी नज़्म शृंखला दास्ताँ का टंकण कार्य अधूरा रह गया था। इसीलिए अब मेने अपनी अब तक कि तमाम नज़्म शायरी में से सबसे बहेत्रिन अति विस्तृत दर्दभरी नज़्म दस्तानों को जो स्वम् में एक सम्पूर्ण कहानी है दर्दभरी नज़्म शायरी के रूप […]

Mar 29, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

सत्य है। // Its True.

अपने जीवन के संघर्ष का दृढ़तापूर्वक सामना करना एव उन पर विजय प्राप्त करना ऐसे ही है जैसे कि सूर्य और प्रकाश। यह दोनों ही तथ्य एक दूसरे के पूरक है। एव एक की अनुपस्थिति में दूसरे की उपस्थिति हो ही नही सकती। इसीलिए जब हम अपने जीवन के संघर्षो का सामना करते है तो […]

Mar 29, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

एक आभार। // Gratitude.

मेरे साधारण से जीवन को बदल कर एक सकरात्मक दिशा प्रदान करने वाले मेरे गुरुदेव श्री सुरेश सैनी जी का मैं अपने ह्रदय से आभार व्यक्त करता हु जिन्होंने अपनी संस्था सवेरा फाउंडेशन के माध्यम द्वारा वर्ष 2003-04 में मुझ को एक उचित आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान किया। आज अगर मैं जीवित हु और कुछ सोच […]

Mar 28, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

🇮🇳 नरेंद्र दामोदरदास मोदी। //🇮🇳 Narendra Damodardas Modi

नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी भारतवर्ष के उन चंद चुनिंदा प्रधानमंत्री की श्रेणी में अब हमेशा ही गिने जाएंगे जिन्होंने भारतवर्ष के चमत्कारों की चमक से इस सम्पूर्ण संसार की घमण्ड से चूर आंखों को चुंधिया दिया है। और सम्पूर्ण संसार को भारतवर्ष के सम्मान करने के लिए सहज ही विवश कर दिया है। इनके (नरेंद्र […]

Mar 27, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

दास्ताँ (एक सूचना)

नमस्कार मित्रों, जैसा कि आपको ज्ञात है कि मैने आपसे कहा था कि इस शुक्रवार देर रात्रि तक अपनी आगामी नज़्म शृंखला *दास्ताँ* के अंतर्गत मेरी प्रथम दर्दभरी नज़्म दास्ताँ एक इंतज़ार… महोबत। को प्रकाशित कर दूंगा। परन्तु आपको यह बताते हुए मुझ को अत्यंत ही खेद हो रहा है कि जिस टाइपराइटर को मैने […]

Mar 24, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

1 comment

🌹विक्रांत राजलीवाल एक परिचय।🙏

नमस्कार प्रिय पाठको एव ह्रदय अज़ीज़ श्रुताओं, अक्सर कुछ व्यक्ति मुझ से संदेशक एव e mails के द्वारा मेरा परिचय पूछते है तो उन सभी महानुभवों समेत अपने समस्त चाहने वालो के लिए मैं पुनः अपना एक लघु परिचय यहाँ उपलब्ध करवा रहा हु। मित्रों मैं एक स्वतंत्र लेखक, कवि, शायर एव कहानीकार-नाटककार हु। मेरी […]