Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal Creation's -स्वतंत्र लेखक-

काव्य-नज़्म, ग़ज़ल-गीत, व्यंग्य-किस्से, नाटक-कहानी-विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।-स्वतंत्र लेखक-

Mar 15, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

💃 शराबों। 🌹🌹🌹 (पुनः प्रकाशित अति लघु तंकन त्रुटी सुधारूपरांत)

ना वो प्याला रहा सलामत, ना वो दौर ए दस्तूर ही रह पाया कायम, बदलते समय से बदल गए हर यार यहाँ। देखें इस दुनियां में यार बहुत, ढूंढे ना ढूंढ़ पाए फिर भी यार शराबों सा हम यार यहाँ।। हर घुट से उतरता ज़हर, घुट घुट से चढ़ता ज़हर, तासीर है तिलस्मी, जिसका हर […]

Mar 15, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

💃 शराबों। 🌹🌹🌹

ना वो प्याला रहा सलामत, ना वो दौर ए दस्तूर ही रह पाया कायम, बदलते समय से बदल गए हर यार यहाँ। देखें इस दुनियां में यार बहुत, ढूंढे ना ढूंढ़ पाए फिर भी यार शराबों सा हम यार यहाँ।। हर घुट से उतरता ज़हर, घुट घुट से चढ़ता ज़हर, तासीर है तिलस्मी, जिसका हर […]

Mar 10, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

ज़िंदगी।

कुछ लिख कर एहसासों को मिटा देना अश्को से कितना सरल हो गया है आजकल अपने। फ़क़त आज भी उतना ही पहुचाता है दर्द, हर लिखे हुए को खुद ही खुद से मिटा जाना खुद के।। हमने जब चली कोई चाल सीधे सीधी, एक आवाज़ ने हर बार बुलंद हो कर के मचाया है शोर […]

Mar 10, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

ज़िंदगी।

कुछ लिख कर एहसासों को मिटा देना अश्को से कितना सरल हो गया है आजकल अपने। फ़क़त आज भी उतना ही पहुचाता है दर्द, हर लिखे हुए को खुद ही खुद से मिटा जाना खुद के।। हमने जब चली कोई चाल सीधे सीधी, एक आवाज़ ने हर बार बुलंद हो कर के मचाया है शोर […]

Mar 8, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🇮🇳 दौर आखरी नियम चुनावी। with Today’s Live video performance Link from YouTube.

क्यों पूछते हो आप सवाल टेड़ा, उठ जाता है सवाल सीधा, सवाल से आपके है जो टेड़ा, शौर्य पर सेना के हमारे। पूछना है तो पैमाना पूछ लेते, नापना है तो सीना नाप लेते, हर पैमाने से झलकती विरता, एक एक इंच सीने से शौर्यता सेना के हमारे।। शहीदों की है अमर गाथा, शहादत की […]

Mar 6, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🇮🇳 दौर आखरी नियम चुनावी।

क्यों पूछते हो आप सवाल टेड़ा, उठ जाता है सवाल सीधा, सवाल से आपके है जो टेड़ा, शौर्य पर सेना के हमारे। पूछना है तो पैमाना पूछ लेते, नापना है तो सीना नाप लेते, हर पैमाने से झलकती विरता, एक एक इंच सीने से शौर्यता सेना के हमारे।। शहीदों की है अमर गाथा, शहादत की […]

Mar 6, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🕳️ सत्य, संघर्ष एव परिवर्तन।

देश ( भारतवर्ष ) का मूड आजकल पूर्णतः चुनावी हो गया है क्या? कभी धर्म के नाम पर राजनीति तो कभी फ़ौज के नाम पर सियासत आजकल यही सबसे महत्वपूर्ण एक चुनावी मुद्दा उभरा कर सामने आया है! ऐसा होना भी चाहिए परन्तु यह भी ध्यान रहे कि 2019 के चुनाव केवल और केवल इन्ही […]