Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal Creation's -स्वतंत्र लेखक-

काव्य-नज़्म, ग़ज़ल-गीत, व्यंग्य-किस्से, नाटक-कहानी-विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।-स्वतंत्र लेखक-

Feb 23, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

👑 ह्रदय आभार

☄ विक्रांत राजलीवाल एक लेखक, कवि-शायर-नज़्मकार-गीतकार, नाटककार-कहानीकार एव स्वतंत्र विचारक। 🎤 आज मैं आपका अपना विक्रांत राजलीवाल आप सभी साहित्य एव काव्य-नज़्म,-शायरी, गीत-ग़ज़ल, व्यंग्य, किस्से, नाटक-कहानी-संवाद के प्रेमी पाठको एव श्रुताओं का अपनी अंतरात्मा स्वरूपी अपने ह्रदय के उन सच्चे भावो के द्वारा कोटि कोटि धन्यवाद व्यक्त करना चाहता हु। धन्यवाद मुझ जैसे एक अबोध […]

Feb 19, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🇮🇳 वीर राजा छत्रपति शिवाजी Live on Youtube (शौर्यता एव वीरता के प्रतीक इतिहासिक युग पुरुष)

शौर्य, वीरता की एक मिसाल जो, गर्ज सिंह सी एक दहाड़ जो, ऐसे वीर राजा छत्रपति शिवाजी को शत शत नमन: है। माता जिजाऊ की दुलार से, समर्थ गुरु के ज्ञान से, स्थापित सत्य न्याय से स्वराज्य किया, ऐसे वीर राजा छत्रपति शिवाजी को शत शत नमन: है।। फुट पड़ा था ज्वलित ज्वालामुखी, अंगार बरसा […]

Feb 15, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

आहत ह्रदय।

आहत ह्रदय सहज ही हो जाता है मेरा,छल्ली घावों को एक घाव नया मिल जाता है जब। कहने को है दुखद ह्रदय की व्यथा अनन्त, कुछ कहते, कुछ सुनते मगर भर जाए व्याकुल कंठ जब।। निर्मोही ये संसार हुआ, हर बात सियासत से हुए जब। एहसासों की बात नही, हर एहसास निरर्थक हो जाए जब।। […]

Feb 15, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

मातृभूमि।

सो गया टूट कर जो विशवास, अब उसे मरने नही देंगे। हा हम धूर्त आतंकियो को अब चैन से जीने नही देंगे।। सोए हुए विशवास को अब झंझोर कर उठाना होगा। कायर आतंकियो को अब क्रोध अग्नि से जलाना होगा।। सकूं की नींद सोने से पूर्व, याद शहीदों को करना होगा। धितकार हर देशद्रोही को, […]

Feb 14, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

दर्द ए एहसास।

रोशन हर चिरागों से कह दे कोई जा कर के, रोशनी न करें आज ये दिल कुछ उदास है मेरा। बहती हुई हवाओ ए सुनी मेरी फिज़ाओ, सुन सको तो सुन लेना एक आह, टूटे अरमानों से कभी निकलती थी जो मेरे।। जख़्मी हर एहसासों से आरज़ू कब की मर चुकी है ज़िंदगी, हर सांस […]

Feb 8, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🎻दर्द ए महोबत।

होती है मुलाकातें जब भी उनसे, हालात ए रुसवाई कहर बरसाते है। करती है गुफ़्तगू ख़ामोश निगाहे, ज़ख्म दिल पर सरेराह लग जाते है।। हर अदा है क़ातिल उनकी, क़ातिलाना है हुस्न ए शबाब उनका, क़त्ल ए दीवाना हर अदा से अपनी, दीवाने का अपने, बेदर्दी जो खमोशी से कर जाते है। तड़प है महोबत […]

Feb 4, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

❤ Something real with heart (Feeling’s)

When you are happy, many people face sadness. But the sadness of seeing your face, the face of those people blooms like flowers. We want to know you as close as possible. But my misfortune is that you stay far away from me. There are many distances between us, but still I have always shown […]