Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal Creation's

Poetry, Shayari, Gazal, Satire, drama & Articles Written by Vikrant Rajliwal

June 12, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal Creation's

no comments

Resolution Power. (Translated by Vikrant Rajliwal)

You need to have a positive feeling that you have wasted the precious time due to the misdeeds and misdeeds of your past, and by adopting the path of truth in the current era, while improving your own dilapidated person, Use of time and your persistence on that divine path can be a path of […]

June 10, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal Creation's

no comments

रेप। / Rape

रेप! कहने को तो एक शब्द होता है। परन्तु इस शब्द रेप की वास्तविकता अत्यन्त ही भयानक होती है। रेप और रेपिस्ट? क्या रेप करने वाला ही रेपिस्ट होता है या जिन्होंने वह अनैतिक हालात उतपन किए क्या कहि ना कहि वास्तविक दोषी वही तो नही होते? यदि उन व्यक्तियों ने, जिन्होंने एक मासूम को […]

June 10, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal Creation's

no comments

जब हमें जरूरत थी उनकी तो हम उनके किसी भी काम के ना थे। जब पड़ी जरूरत उन्हें हमारी तो वो हमारे किसी काम के ना रहे।। विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित। When we needed him we were not of any of his work. When they need us, then they will not be of any use […]

May 28, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal Creation's

no comments

दर्द। (नई ग़ज़ल)

जब खाई शिखस्त हमनें, अपनो के हाथों ही खाई, नही पाए पहचान जो हाथ वो खंजर उतारा दिल मे बेदर्दी से जो गया। हो कर बेरवाह ज़िन्दगी से, सलूख ज़िन्दगी के हम सीखते रहे, जान हर सलूख जिंदगी के, जान जिंदगी की निकलती रही।। दर्द हर हक़ीक़त का करते रहे जान कर भी नज़रंदाज़ हम […]

May 26, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal Creation's

no comments

एहसास

ये रात भी बीत जाएगी और एक एक कर के दिन तमाम, भागते रहे करने को ख़िदमत, खड़े बांध कतार में तुम अपने हाथ। करि ख़िदमत शहंशाहों की उम्र तमाम, मिला एक लम्हा भी सकूँ का फिर भी नही, करा नज़रंदाज़ साए को अपने, छोड़ अपनो का साथ।। कर दिए हर लव्ज़ महोबतों के बेअसर […]

May 24, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal Creation's

2 comments

अधुरे एहसास। (नई ग़ज़ल)

ज़िन्दगी में चेहरे धुंधलाते से पड़ गए जितने, देखा है हमने ज़िन्दगी में अक्सर हमे वही चेहरे याद रहे। रहे ना रहे हम ज़िन्दगी में ए ज़िन्दगी फ़क़त रह जाएंगे निसान ज़िन्दगी में ज़िन्दगी के जो हमने कभी मिटने नही दिए।। एहसास हैं मुझे हर लम्हा उन एहसासों का अपने, धूल जिन पर बदलते वक़्त […]

May 18, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal Creation's

no comments

सुलगते एहसास।

आज फिर से मौसम ने अँगड़ाई ली है बदलते वख्त ने भी वख्त की दुहाई दी है। मिज़ाज अपना ना बदल देना कोई, देख कर बदलता रंग ए आसमां, रंग अपना ना बदल देना कोई।। कायम एहसासों से कायम है एहसास जितने, बदलते वख्त से मिटा ना देना तुम कायम एहसास अपने। असूल ये दुनियादारी […]