Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal Creation's -स्वतन्त्र लेखन-

काव्य-नज़्म, ग़ज़ल-गीत, व्यंग्य-किस्से, नाटक-कहानी-विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित। -स्वतंत्र लेखन-

Apr 19, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

💥 जय हनुमन्त। (With the video link of today’s YouTube poetry reading.)

जय हनुमन्त अति बलदाई। जन्म जन्म के दुख मिटाई।। देख तुन्हें हर दुष्ट है भागा। मिट जाता है हर घाव ताजा।। कौन है इस जग में तुमसा महान। आते हो तुम ही दुखियो के काम।। समीप ह्रदय है जवलित, तुम्हरा ही पवित्र उजाला। अंधकार पल भर में मलिनता मन की दूर कर डाला।। देख तुम्हे […]

Mar 29, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

सत्य है। // Its True.

अपने जीवन के संघर्ष का दृढ़तापूर्वक सामना करना एव उन पर विजय प्राप्त करना ऐसे ही है जैसे कि सूर्य और प्रकाश। यह दोनों ही तथ्य एक दूसरे के पूरक है। एव एक की अनुपस्थिति में दूसरे की उपस्थिति हो ही नही सकती। इसीलिए जब हम अपने जीवन के संघर्षो का सामना करते है तो […]

Mar 15, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

💥 एक ऊर्जा // 💥 An Energy

अक्सर हम अपने जीवन कि जटिल परिस्थितियों से जब भी आहत होते है तो हमेशा ही नकारात्मक ऊर्जा के प्रभाव से अंदर से कुछ टूट से जाते है। एव उस नकारात्मक ऊर्जा के प्रभाव से हमे इस संसार में हर ओर दिखाई देती है केवल और केवल एक नकरात्मकता। अत्यंत ही भाग्यशाली एव कर्मठ होते […]

Mar 6, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

🕳️ Truth, Struggle and Change

The mood of the country (India ) has become completely electoral nowadays? Politics in the name of religion, sometimes in the name of the military, nowadays, one of the most important election issues has emerged!   It should also be done, but keep in mind that the 2019 elections should not only be centered on […]

Mar 3, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

👥 एक प्रयास। / 👥 An Effort.

मेरा हमेशा से ही एक प्रयास रहता है कि हमेशा ही स्वम् के ह्रदय के एहसासों को समझ सकू। उनके (ह्रदय एहसास) उन अनकहे एव अनसुने स्वरों को सुन सकू एव महसूस कर सकू। एव उनपर अपनी अंतरात्मा से अपने निःस्वार्थ व्यवहारों के द्वारा अमल कर सकू। परन्तु कई बार जीवन की जटिल परिस्थितियां आपके […]

Mar 2, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

🎭 The Truth Of Life Is An Effort.

In today’s selfish world, the day is even more intense, in our system and becoming harsh, most of the people or people are forced to kneel in front of courtesy and complicated adverse circumstances. But even if a person or person who is still struggling with the complex situations of his life, can not yet […]

Feb 23, 2019
Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal (स्वतँत्र लेखन)

no comments

🕯

Often I used to listen to some people that people who are using social media or social media are living in slums or living in fantasies. But the truth is that after connecting to social media from the year 2016, September, many devils have been shattered by my own self only.   💔 Often we […]