Advertisements

ब्रह्मांड और मस्तिष्क। (पुनः प्रकाशित)

हमारा यह विशालकाय ब्रह्माण्ड अनेक प्रकार के रहस्यों को अपने में समाय हुए हैं। और इस ब्रह्माण्ड के रहस्य अनेक प्रकार के आचर्यो से परिपूर्ण हैं। उन रहस्यो या आचार्यो कि कलपना भी कोई साधारण मनुष्य मस्तिक्ष नही कर सकता। परन्तु फिर भी कुछ  होनहार मस्तिक्ष उन तमाम अदभुत ब्रह्माण्ड के रहस्यों में से किसीContinue reading “ब्रह्मांड और मस्तिष्क। (पुनः प्रकाशित)”

Advertisements