Advertisements

मोहब्ब्त।/Love (Mohabbat)

यह मेरी यानी कि आपके अपने विक्रांत राजलीवाल की नई ग़ज़ल है।

Advertisements

एक एहसास-ज़िंदगी।

ज़िंदगी की कसौटियों से रूबरू होती हुई एक ग़ज़ल।