True Experience.

Today, when someone who knows and understands me closely from me, asks what is the real reason behind the positive change that is happening within you? Then I would like to tell them that in the year 2000, when I was 15 or 16, I contacted my father and informed him that my health is bad and on the way I told him the reality that someone should fill me with a cigarette Has given drink And this has been happening for a long time. Then my father became very angry with me. And they said to me with the same angry voice that you should tell all this to the doctor!

The most important first topic here is that I was willing to accept the truth in my ignorant age, and to free myself from all kinds of harmful substances. And the second most important topic is that at that time the knowledge to understand my real situation was not available to myself and my family. For this reason, I was imprisoned at home despite not wanting due to ignorance. What would be the health, my physical and mental health also got greatly distorted. Due to this ignorance, I also suffered many physical and mental injuries. Whose pain I may not be able to express even if I want to.

Thereafter, my father provided me with a cure for health enhancement through many Hakiams, tantrikas and hospitals. But all were found in futility. Finally in the year 2004, I was admitted to the rehabilitation center. Where I was getting the knowledge that I was facing after facing many complicated and difficult results, I realized that this is what I needed and still am! But in this way, like a prisoner, in punitive situations, like a bird in a cage, I may not be able to achieve health in an environment of fear. While ignoring all the complex and harsh results there, the divine knowledge that I was receiving is just life.

And while accepting the position of prisoner, I continued to adopt divine knowledge of my life as a slave. But today after 15 years, in December, 2019, I can say that the divine knowledge that I was in need of at the age of 15 or 16 in 2000. The unknown path which I had chosen for myself by truth. I could not work in my life in an environment of Dependence like a prison and forcefully. But this does not mean that that divine knowledge proved futile in my life. But in a free environment today without any restriction, with a self-acknowledgment of self-free and positive efforts, after graduation from Delhi University free of all kinds of harmful addictions from 28 months to 5 days, through a creative writing of literature I am doing service

That is why if a positive change can come in my life, then you or your family or the child who is stuck in the grip of addictions can also have a positive change in their life. And they can do a better job than me. If they just need, then a qualified person and friend who can understand their problems closely can help them by understanding them and their problems.

Written by Vikrant Rajliwal.

Advertisements

💥 सत्य स्वीकार। / 💥 Accept The Truth.

स्वयं को सबसे ख़ास समझते हुए अपने जीवन के हादसों को नकारना! कि मैं तो सबसे अलग हु मेरे साथ ऐसा कैसे हो सकता है। मेरी तो कोई भी ग़लती नही है। फिर मेरे साथ ऐसा कैसे हो सकता है? नही, नही मैं बिल्कुल सही हु, ऐसा तो हुआ है या नही हुआ है, मुझ को पता ही नही! अपने जीवन की समस्याओं को अस्वीकार करते हुए हमेशा ही मैं भागता रहा हु। और आज भी स्वयं को सबसे ख़ास या महत्वपूर्ण मानते हुए वास्तविकता को स्वीकार ना करू! तो मैं अपने जीवन को एक ऐसी क्रूर नरकाग्नि में स्वयं के द्वारा ना चाहते हुए भी स्वयं अपने जीवन को झुलसा दूंगा।

इसीलिए सर्वप्रथम मैं यह स्वीकार करता हु कि मैं भी एक पूर्णतः सामान्य जन के समान प्रसन्ता एवं आत्मशांति का हकदार हु। इसीलिए आज मैं अपने जीवन के उन सभी हादसों और समस्याओं को स्वीकारते हुए अपने स्वयं के विकास एवं आत्मशांति के प्रति ईमानदारी पूर्वक व्यवहार करता हु।

धन्यवाद।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

Accept The Truth.

Considering myself to be the most special, denying the accidents of my life, how can I be so different with me. There is no mistake of mine. How can this happen to me then? No, no, I am absolutely right, whether this has happened or not, I do not know! I have always been running away while rejecting the problems of my life. And even today, considering myself as the most special or important person and not accepting the reality, I will scorch my life in a cruel inferno fire even without wanting to by myself.

That is why, first of all, I accept that I am entitled to happiness and self-peace like a normal person. That is why today I accept all those accidents and problems in my life and behave honestly for my own development and self-peace.

Thank you

Written by Vikrant Rajliwal.

एक आभार। 🙏

वर्ष 2008 में, जीवन एक दम से बदल गया। अचानक ही मुझ को, जब पता चला कि इस बार जो मेरे हाथों में किताब है। वह वास्तविक रूप से सत्य है। एवं मैने परीक्षा की तैयारी, प्रारम्भ कर दी। अब मैं पूर्व की अपेक्षा, स्वयं को अधिक सन्तुष्ट, महसूस कर पा रहा था। आज लगभग 6 वर्षो के गेप के उपरांत, मेरे हाथों में एक बार पुनः सरस्वति विराजमान थी। जो मुझ से कह रही थी कि यही अवसर है पुत्र, स्वयँ के अज्ञान को दूर करते हुए। ग्रेजुएट साक्षरता को प्राप्त करने का।

उस समय मैं शायद अपनी उन भावनाओं से कुछ अनजान था। एवं आज लगभग 11 वर्षो के उपरांत दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट होने के उपरांत, एवं निरन्तर सक्रिय रहते हुए मुझ को, जो साहित्यिक रचनाओँ को रचने का एक अवसर, एक वरदान स्वररूप प्राप्त हुआ है। मैं चाह कर भी, अपनी इस भावना को, शायद व्यक्त ना कर सकूँ।

मैं यानी कि आपका अपना मित्र विक्रांत राजलीवाल, माँ सरस्वती समेत आपने इष्ट देवताओं एवं आप आप सभी प्रशंशको का हार्दिक आभार व्यक्त करता हु।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

3 नवम्बर वर्ष 2019 समय प्रातः 9:27 बजे।

💥 One Truth. 6 (Sixth Blog) A truth inspired by true experiences.

Now further …

On a deserted road of a scooter, as soon as we stop in an empty space on one side, we all, one by one, get off the scooter and stand on the side of the road. Thereafter, Uncle X, (fictitious name), located about 50 meters away, while looking at an office, says that he is an office, let’s go. As soon as he said this, I was convinced that there is a party in that office today and there must have already been a sprinkling of liquor and sprinkles of liquor. On thinking this, I very enthusiastically walk with them towards that office. But upon reaching there, my forehead gets a tinkle. There, a middle-aged man Sukesh Shonthi (fictitious name) was sitting on the chair. He smiles at us and welcomes us. And there were other decent people standing around him. We enter the office and sit on the chair in front of him. While sitting in our chair, that middle-aged man smilingly asks me, do you know me? I was feeling very strange all this. While somehow controlling my restlessness, I tell him very easily that no, I do not know you. Then he asks me whether you smoke cigarettes or alcohol. My hidden uneasiness began to appear from their conversation. At that time I could not understand why he was asking me such a question. When we come to party here, we will naturally drink alcohol, then why are they behaving so strangely. Bowing to all these thoughts, then I tell them that yes I am Drinking alcohol. Get it now. As soon as I say this, Uncle X stands up from the chair and along with him Uncle Y (Moussa ji) and I also get out of the office while standing in my chair. Then where Uncle X had parked his scooter, he comes and stands near a closed door. Then Uncle Ekus tells me that Vicky (my nick name) let’s go inside. As soon as they say this, I feel that the party is going to start. And as soon as I turned behind them, then Uncle Yai (Moussa ji) held my hand and insisted with great confidence, told me not to go inside Vicky. This is what remained with me. Uncle Yai (Mausa ji) who works in Delhi Police Department. I was very surprised by his strange behavior. At that time, I could not even realize why he was saying this to me. Then Uncle X makes a voice saying that Vicky come. And I tell Uncle Yai (Mousa ji) that nothing will happen, come and go. Saying so, I enter inside with Uncle X through that closed door.

At that time it seemed to me that behind the closed door there must be some colorful program of alcohol’s or any such colorful program is going to be there today. That is why we have come on such a scooter today to party at such a deserted and secret place. I almost reached there by sitting at Stepney. But as soon as I enter through the closed door, my senses fly away. As soon as I entered inside that closed door, in front of my eyes, my young boys and young men who looked like some mushtando (Healthy boys), there was a whole army. The first thought that came to me after seeing them was that this is definitely a child prison. And today we have come to this party. With this one feeling behind Uncle X, I enter a nearby room, through that closed door. Where a bed and some other discount put-alike was present. As soon as I entered that room, I felt that this is where the party will be today. The only place Uncle X and I sit in that room is to sit on that bed. Then Uncle X says take off your shoes and sit comfortably, I come now. As soon as he said this, I realized that he definitely went to call Uncle Yai (Mausa ji) and arrange the party. After he left, I sat there for about five minutes, and after that I took off my socks and smoked a bidi (cigar), and lay very leisurely on that bed. At the same time a person of a weak body enters the room in the most ordinary clothes. Don’t know why he was smiling at me. Before I tell him anything, he starts to poach in that room. Then I lie down to him in the same way that Uncle X I came in with is said? As soon as I say this, he smiles without missing a single moment and says that he has gone!

What did he mean at that time? I could not understand that. For about five to ten minutes or some time I kept taking the lonely inside the room, trying to understand those words of the person that he had gone. Suddenly with a jerk, inside the room, a wrestler type of my father’s age, a body builder, and a few other hatted young men enter with him. I was surprised to see them entering the room like this. But I kept lying down like that. All those people stand near me and then I get up and sit and tell them that where is Uncle X I said? Then he, like that first person, tells me that he has gone. As soon as they say this, I start wearing my socks. He was saying something to me, but after listening to him that he went. My Rome Rome (inside my body) was burning like a burning ember. And I was not interested in hearing any of his words. After wearing my socks, I now stand up wearing my shoes. Now we all stood face to face each other. At that time my Rome Rome (my body inside) was burning with anger and all of them were still smiling while looking at me. All this seemed to me very strange. With this strange poor mood I tell them that I have to go out. Just then a young man removes the curtain of the room and stares at me, looking inside the room. Then the scene that I saw entering inside the closed door once again appears that many such mustandas (Healthy Boys) were present here.

Suddenly I realize that I am stuck here very badly. After a while, after staring at him with anger, that Body Builder Uncle’s age, I try to knock him out of the room with his arm. Then he smiles in the same way that you can no longer go out. They were all still smiling. Which made me feel a little comfortable now. But hiding that ease, I ask him to go out in the same way. Then without losing even a single moment, he says to another young man, who appears like a mustanda standing near him, that he should take a search. As soon as he says this, he proceeds to search, but I remove him from one side and say that I have nothing. Then he starts searching himself, who looks like a Body builder. First he searches for the shirt pocket but he finds nothing there. Then I tell them that I had said that I have nothing. Then he searches my paint pocket and suddenly a smile comes on his face and he gets a pudding. Then I tell them, now you have got the pudiya. Now let me go out. But while continuing his search, he smiles again, getting another pudiya. Then I tell them that it was just this pudiya anymore. Now let me go out. But by continuing his search in the same way, he also obtains the third and final pudiya. I tell him once more that this was now the last lap and it is not my lap. Someone caught me to keep. After a few moments and searching, he is now convinced that I was telling the truth. Then he tells me that now you have to be here. On hearing this, I too smiled towards them and kept a control on myself and said how could this happen? I have to go now. Then the sir says very simply that this is a de-addiction center. And now you have to be the same. On hearing this from his mouth, the fire of anger once again ignited in my veins. But realizing the seriousness of that situation, I take a silence.

Then he calls a young man Shakir (fictional name) to get his family introduced with introduction. At that time, it seemed to me that my mother and father are present here and are taking me to get my talks once before placing me here. If this happens then I will get out of here today and now because it is not yet known to me how dangerous and menopaulated I can be. I was just contemplating all this when Shakir comes near to me and tells me that let’s do the family introduction. What will you say after reaching there? After a few moments of silence, he again explains to me, what is your name? Yes, I Vicky. Then he says don’t speak like that, say my name is Addict Vicky. On hearing this from his mouth, I felt as if he was trying to make fun of me. Then I enter the hall behind a closed curtain close behind him.

From the next next blog…

Written by Vikrant Rajliwal

(Translated)

21 October 2019 Time at 8:12 pm.

💥 एक सत्य। 6 (छटवा ब्लॉग) सत्य अनुभवों से प्रेरित एक सत्य।

अब आगे…

स्कूटर के एक सुनसान सड़क पर, एक तरफ खाली स्थान पर रुकते ही, हम एक, एक कर के सभी जन स्कूटर से उतर कर सड़क के किनारे खड़े हो जाते है। तदोपरांत प्रथम अंकल एक्स, (काल्पनिक नाम) लगभग 50 मीटर की दूरी पर स्थित, एक ऑफिस को देखते हुए कहते है कि वह रहा ऑफिस, आओ वही चलते है। उनके इतना कहते ही मुझे विशवास हो गया कि उस ऑफिस में ही आज पार्टी है और वहाँ पहले से ही दौर ए शराब के जाम की महफ़िल सजी हुई होगी। यह विचार करते ही मैं अत्यंत ही उत्साह से उनके साथ उस ऑफिस की ओर चल देता हूं। परन्तु वहाँ पहुँच कर मेरा माथा कुछ ठनक जाता है। वहाँ एक अधेड़ उम्र का व्यक्ति सुकेश शोन्थि (काल्पनिक नाम) कुर्सी पर बैठे हुए थे। हमे देखते ही वह मुस्कुराते हुए हमारा स्वागत करते है। और उसके आस पास कुछ सभ्य से दिखाई देते हए अन्य व्यक्ति भी खड़े थे। हम ऑफिस में प्रवेश करते हुए उनके सामने की कुर्सी पर विराजमान हो जाते है। हमारे कुर्सी पर बैठते ही वह अधेड़ उम्र के व्यक्ति मुस्कुराते हुए मुझ से पूछते है कि क्या मुझ को जानते हो? मुझे यह सब कुछ अत्यंत ही अज़ीब से महसूस हो रहा था। अपनी उस बेचैनी पर किसी प्रकार नियन्त्रण करते हुए मैं उनसे अत्यन्त ही सहज भाव से कहता हूं कि नही! मैं आपको नही जानता। तब वह मुझ से पूछते है कि सिगरेट या शराब पीते हो। उनके इस प्रकार के वार्तालाप से मेरी छुपी हुई बेचैनी कुछ कुछ प्रकट होने लगी। उस समय मैं यह नही समझ पा रहा था कि वह मुझ से ऐसा प्रश्न क्यों पूछ रहे है। जब हम यहाँ पार्टी करने आए है तो जाहिर है कि शराब पिएंगे ही, फिर वह ऐसा अज़ीब व्यवहार क्यों कर रहे है। इन सभी विचारो से झुझते हुए तब मैं उनसे कहता हु की हा पिता हु। मंगवा लीजिए। मेरे इतना कहते ही अंकल एक्स कुर्सी से खड़े हो जाते है एवं उनके साथ ही अंकल वाई (मौसा जी) और मैं भी अपनी अपनी कुर्सी से खड़े होते हुए ऑफिस से बाहर निकल जाते है। फिर जहा अंकल एक्स ने अपना स्कूटर खड़ा किया था ठीक वही आकर एक बन्द दरवाजे के समीप खड़े हो जाते है। तब अंकल एकस मुझ से कहते है कि विक्की (मेरा पेट नाम) आओ अंदर चलते है। उनके इतना कहते ही मुझ को ऐसा लग की हा अब पार्टी शुरू होने वाली है। और मैं उनके पीछे जैसे ही मुड़ा तभी अंकल वाई (मौसा जी) ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बहुत ही आत्मविश्वास के साथ जोर देते हुए, मुझ से कहा कि विक्की अंदर मत जाइओ। यही मेरे पास खड़ा रहे। अंकल वाई (मौसा जी) जो कि दिल्ली पुलिस विभाग में कार्य करते है। उनके इस प्रकार के अज़ीब व्यवहार से मुझ को अत्यंत ही हैरानी हुई। उस समय मुझ को किंचित मात्र भी एहसास नही हो सका कि वह मुझ से ऐसा क्यों कह रहे है। तभी अंकल एक्स एक आवाज़ लगाते हुए कहते है कि विक्की आ जा। और मैं अंकल वाई (मौसा जी) से कहता हूं कि कुछ नही होगा आ जाओ अंदर ही पार्टी है। इतना कहते हुए मैं अंकल एक्स के साथ उस बन्द दरवाजे से होते हुए अंदर घुस जाता हूं।

उस समय मुझ को ऐसा प्रतीत हो रहा था कि उस बन्द दरवाजे के पीछे अवश्य ही शराब और नशे का कोई रंगारंग कार्यक्रम चल रहा होगा या ऐसा ही कोई रंग रंगीला कार्यक्रम आज अवश्य ही होने को है। तभी तो ऐसे सुनसान एवं ख़ुफ़िया स्थान पर हम पार्टी करने के लिए आज इस प्रकार से स्कूटर पर बैठ कर आए है। मैं तो लगभग स्टेपनी पर बैठ कर वहा पहुचा था। परन्तु जैसे ही मैं उस बन्द दरवाजे से होते हुए भीतर प्रवेश करता हु, तो मेरे होश ओ हवास उड़ जाते है। उस बन्द दरवाजे के अंदर प्रवेश करते ही मेरी नज़रो के सामने मेरी हम उम्र नोजवान लड़को एवं कुछ मुश्तण्डो की तरह दिखाई देने वाले जवान लड़को कि एक पूरी फ़ौज थी। उन्हें देख कर प्रथम विचार मुझ यही आया था कि यह जरूर कोई बच्चा जेल है। और आज यही पार्टी करने के लिए हम आए है। इस एक एहसास के साथ अंकल एक्स के पीछे पीछे मैं उस बन्द दरवाजे से होते हुए समीप के एक कमरे में प्रवेश कर जाता हु। जहाँ एक बिस्तर और कुछ अन्य छूट पुट सा साज समान मौजूद था। उस कमरे मैं प्रवेश करते ही मुझ को ऐसा लगा कि हा यही वह स्थान है जहाँ पार्टी होगी। अंकल एक्स और मैं उस कमरे में मौजूद बैठने लायक एकमात्र स्थान उस बिस्तर पर बैठ जाते है। तब अंकल एक्स कहते है कि अपने जूते उतार कर आराम से बैठ जाओ, मैं अभी आता हूं। उनके इतना कहते ही मुझ को ऐसा एहसास हुआ कि जरूर वह अंकल वाई (मौसा जी) को बुलाने के साथ ही पार्टी कि व्यवस्था करने के लिए गए है। उनके जाने के उपरांत, मैं लगभव पांच मिनट तक, वैसे ही बैठा रहा तदोपरांत मैं अपनी जुराबें उतार कर एक बीड़ी सुलगाते हुए, उस बिस्तर पर बहुत ही इत्मीनान से लेट जाता हूं। उसी समय एक कमजोर शरीर का एक व्यक्ति अत्यंत ही साधारण से कपड़ो में उस कमरे के भीतर प्रवेश करता है। वह मुझ को देख कर ना जाने क्यों मुस्कुरा रहा था। मैं उससे कुछ कहता उससे पूर्व ही वह उस कमरे में पोचा लगाना प्रारम्भ कर देता है। तब मैं उसी प्रकार से लेटे हुए उससे कहता हूं कि जिन अंकल एक्स के साथ मैं अंदर आया था वह कहा है? मेरे इतना कहते ही वह बिना एक क्षण भी गवाए मुस्कुराते हुए कहता है कि वह तो गए!

उस समय उसके कहने का क्या मतलब था! वह मेरी समझ मे नही आ रहा था। लगभग पांच से दस मिनट या कुछ समय तक मैं तन्हा उस कमरे के भीतर लेता हुआ, उस व्यक्ति के द्वारा कह गए उन शब्दों को समझने का प्रयास करता रहा कि वह तो गए। अचानक से एक झटके के साथ उस कमरे के भीतर मेरे पिता की उम्र का एक पहलवान के जेसा दिखाई देने वाला, बाड़ी बिल्डर व्यक्ति और उसके साथ कुछ अन्य हट्टे कट्टे युवा प्रवेश करते है। उन्हें इस प्रकार से उस कमरे के भीतर प्रवेश करते देख, मुझे कुछ हैरानी हुई। परंतु मैं उसी प्रकार से लेटा रहा। वह सभी व्यक्ति मेरे समीप ही आ कर खड़े हो जाते है तब मैं उठ कर बैठ जाता हूं एवं उनसे कहता हूं कि अंकल एक्स कहा है? तब वह भी उस प्रथम व्यक्ति के समान ही मुझ से कहते है कि वह तो गए। उनके इतना कहते ही मैं अपनी जुराबें पहनना प्रारम्भ कर देता हूं। वह मुझ से कुछ कह रहे थे परन्तु उनकी उस बात को सुनकर कि वह तो गए। मेरा रोम रोम जलते हुए अंगार के समान जलने लगा था। और मुझे उनके किसी भी शब्द को सुनने में अब कोई भी दिलचसबी नही थी। अपनी जुराबें पहनने के उपरांत अब में अपने जूते पहन कर खड़ा हो जाता हूं। अब हम सब एक दूसरे के आमने सामने अड़ कर खड़े थे। उस समय मेरा रोम रोम क्रोध से ज्वलित था और वह सब अब भी मेरी ओर देखते हुए मुस्कुरा रहे थे। मुझ को यह सब कुछ अत्यंत ही अज़ीब सा प्रतीत ही रहा था। इसी अजीबो गरीब मनोस्थिति के साथ मैं उनसे कहता हूं कि मुझ को बाहर जाना है। तभी एक हटा कट्टा मुस्टंडा युवक उस कमरे का पर्दा हटा कर अंदर देखते हुए मुझ को घूरता है। तभी मुझ को वह दृश्य जो मैने उस बन्द दरवाज़े के भीतर प्रवेश करते हुए देखा था एक बार पुनः दिखाई देता है कि यहाँ ऐसे बहुत से मुस्टंडे मौजूद गए।

अकस्मात ही मुझ को एहसास होता है कि मैं बहुत ही बुरी तरह यहाँ फंस गया हूं। कुछ देर तक उस बाड़ी बिल्डर अंकल की उम्र के उस व्यक्ति को क्रोध से घूरने के उपरांत में उनके बाजू से उस कमरे के बाहर निलने का प्रयास करता हु। तब वह उसी प्रकार से मुस्कुराते हुए कहते है कि अब आप बाहर नही जा सकते हो। वह सब अब भी निरन्तर मुस्कुरा रहे थे जिससे मैं अब कुछ सहज महसूस कर रहा था। परन्तु अपनी उस सहजता को छुपाते हुए मैं उसी प्रकार से बाहर जाने के लिए कहता हूं। फिर वह बिना एक क्षण भी गवाए अपने समीप खड़े एक मुस्टंडे की तरह दिखाई देने वाले मेरे हम उम्र नवयुवक से वह कहते है कि सर्चिंग लो। उनके ऐसा कहते ही वह सर्चिंग के लिए आगे बढ़ता है परन्तु मैं उसको एक ओर को हटा कर कहता हूं कि मेरे पास कुछ भी नही है। तब वह बाड़ी बिल्डर की तरह दिखाई देने वाले महोदय स्वयँ सर्चिंग प्रारम्भ कर देते है। सर्वप्रथम वह कमीज की जेब तलाशते है परंतु उन्हें वहा कुछ भी प्राप्त नही होता। तब मैं उन्हें कहता हूं कि मैने कहा था ना कि मेरे पास कुछ नही है। तब वह मेरी पेंट की जेब तलाशी करते है अचानक ही उनके चेहरे पर एक मुस्कुराहट आ जाती है और उन्हें एक पुड़िया प्राप्त हो जाती है। तब मैं उनसे कहता हूं अब आपको पुड़िया मिल गई ना। अब मुझ को बाहर जाने दीजिए। परन्तु वह अपनी सर्चिंग जारी रखते हुए एक और पुड़िया की प्राप्ति करते हुए पुनः मुस्कुराते है। तब मैं उनसे कहता हूं कि बस यही पुड़िया थी अब और नही है। अब मुझ को बाहर जाने दीजिए। परन्तु वह उसी प्रकार से अपनी सर्चिंग जारी रखते हुए तीसरी और अंतिम पुड़िया भी प्राप्त कर लेते है। मैं एक बार और उनसे कहता हूं कि अब यह आखरी पुड़िया थी और यह सब मेरी पुड़िया नही है। किसी ने मुझ को रखने के लिए पकड़ाई थी। कुछ क्षण और सर्चिंग के उपरांत उन्हें अब यकीन हो जाता है कि मैं सत्य कह रहा था। तब वह मुझ से कहते है कि अब तुम्हें यहीं रहना है। यह सुनते ही मैं भी उनकी ओर मुस्कुराते हुए स्वयँ पर एक नियन्त्रण रखते हुए कहता हूं कि ऐसा कैसे हो सकता है! मुझ को तो अभी जाना है। तब वह महोदय अत्यंत ही सहज भाव से कहते है कि यह नशा मुक्ति केंद्र है। एवं अब आपको यही रहना होगा। उनके मुंह से यह सुनते ही मेरे रग रग में एक बार पुनः क्रोध की अग्नि ज्वलित हो उठती है। परंतु उस स्थिति की गम्भीरता को समझते हुए, मैं एक मौन धारण कर लेता हूं।

तब वह एक युवक शाक़िर (काल्पनिक नाम) को कहते है कि इनका फैमली के साथ इंट्रोडक्शन (पहचान) करवा आओ। उस समय मुझ को ऐसा लगा कि मेरे माता जी और पिता जी यहाँ मौजूद है एवं मुझ को यहाँ रखने से पूर्व एक बार उनसे मेरा वार्तालाव करवाने के लिए ले जा रहे है। यदि ऐसा हुआ तो मैं आज और अभी यहाँ से बाहर निकल जाऊंगा क्यों कि यह अभी मुझे जानते नही है कि मैं कितना खूंखार एवं मेनोप्लेटिड हो सकता हु। मैं अभी यह सब कुछ विचार कर ही रहा था कि तभी शाक़िर मेरे समीप आ कर मुझ से कहता है कि आओ फैमली से इंट्रोडक्शन कर लेते है। वहाँ पहुच कर आप क्या कहोंगें? कुछ क्षण की ख़ामोशी के उपरांत वह मुझ को पुनः समझाते हुए कहता है कि तुम्हारा क्या नाम है? मैं जी विक्की। तब वह कहता है कि ऐसे मत बोलना, कहना मेरा नाम है नशेबाज विक्की। उसके मुँह से यह सुनते ही मुझ को ऐसा लग की वह मेरा मजाक बनाने को कोशिश कर रहा है। फिर मैं उसके पीछे पीछे समीप के एक बन्द पर्दे के पीछे मौजूद हॉल में प्रवेश कर जाता हूं।

शेष अगले ब्लॉग से…

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

21 अक्टूबर 2019 समय दोपहर 2:42 बजे।