Author, Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal

Poetry, Shayari, Gazal, Satire, drama & Articles Written by Vikrant Rajliwal

July 14, 2019
Author, Writer, Poet And Dramatist Vikrant Rajliwal

no comments

One Truth. (3)

Continue … Then after a few moments, I reach the bus stop nearby. He was a salt in the distance of the right biot on the bus stand, whereas I was some time for the previous time to be filled in the stadium by a broken trap on 3:35 minutes. And today, at this time […]

July 14, 2019
Author, Writer, Poet And Dramatist Vikrant Rajliwal

no comments

एक सत्य। (3)

जारी है… फिर कुछ ही क्षणों के उपरांत मैं नज़दीक के बस स्टॉप पर पहुच जाता हूं। वहा बस स्टैंड के ठीक बाई ओर कुछ गज़ की दूरी पर वह पवित्र अखाड़ा था जहाँ मैं कुछ समय पूर्व तक प्रातः काल 3:35 मिनट पर एक टूटे जाल से होते हुए स्टेडियम में दाखिल हो जाता […]

July 9, 2019
Author, Writer, Poet And Dramatist Vikrant Rajliwal

no comments

🙃 “मसखरे” (REBLOG WITH YOUTUBE VIDEO LINK)

एक समय की बात हैं। कुछ मसखरे एक टटू ठेले में सूट बूट पहन कर कहि कार्यक्रम पेश करने को जा रहे थे। नही नही शायद कहि से आ रहे थे। तभी एक मसखरा जिसने शायद कुछ मदिरा पी हुई थी दूसरे मसखरे के पैर पर पैर रखते हुए उसे कोंचते हुए, हँसते मुस्कुराते हुए […]

July 6, 2019
Author, Writer, Poet And Dramatist Vikrant Rajliwal

no comments

ज़िन्दगी

हर तन्हा कदम आपका हौसले से भरा, मिला देगा जल्द ही काफ़िला तुम्हे खोया हुआ। जो ना हो साया साथ अपना कोई, तो गम ना कर, हर तन्हाइयों से महोबत को गले लगा लेगा अपने दीवाना।। हर आहत से अनजानी, छुटती सी मेरी कलम, टूटते हर एहसासों से तड़प जाती है मेरी कलम। हर वाक्या […]

July 2, 2019
Author, Writer, Poet And Dramatist Vikrant Rajliwal

no comments

आगामी ऑनलाइन कृतियां। // Upcoming Online Act’s.

Vikrantrajliwal.com And YouTube channel Kavi, Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal Creation’s Notifications! आगामी ऑनलाइन कृतियां। // Upcoming Online Acts आपके मित्र विक्रांत राजलीवाल जी के द्वारा लिखित एक शुद्ध मनोरंजक साहित्य के पाठन और श्रवण करने के लिए उनके साथ जुड़े रहिए और उनकी ब्लॉग साइट vikrantrajliwal.com और यूटयूब चैनल Kavi,Shayar & Natakakar Vikrant Rajliwal […]

June 21, 2019
Author, Writer, Poet And Dramatist Vikrant Rajliwal

no comments

ONe Truth (2) (translated)

Often, whenever someone asks me what is the most important achievement of you in your life? So I say to them that even today I am alive and my heart is beating in a healthful manner, and this is what is the biggest achievement of my life so far. You must be wondering how? So […]

June 21, 2019
Author, Writer, Poet And Dramatist Vikrant Rajliwal

no comments

एक सत्य। (2)

अक्सर मुझ से जब भी कोई पूछता है कि आपके जीवन में आप कि अब तक की सबसे अहम उपलब्धि कौन सी है? तो मैं उन से सिर्फ इतना ही कहता हूं कि आज भी मैं जिंदा हु और मेरा दिल एक स्वास्थ्य रूप से निष्पाप भाव से धड़क रहा है ना जो, यही है […]